Select Page

All

Top Rated

All

Latest

मेरा आंशिक मौन व्रत

बहुत दिनों से मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा है कि मैं आवश्यकता से अधिक अनुभवी और ज्ञानी हो गया हूं। यदि यह सच है तो बहुत ही अच्छी बात है और यदि यह सच नहीं है तो इस भ्रांति के जनक मुझे चाहने वाले मेरे अजीज दोस्त, मेरे सहकर्मी एवं मेरे...

Read More

रवि परमेश्वरीय होने का अर्थ

“रवि परमेश्वरीय” एक विचार है, जिसका यथार्थ के धरातल पर वर्तमान में कोई वजूद नहीं है | कोई भी शख्स जैसा आज है, वैसा भविष्य में नहीं रहना चाहता है, कुछ और हो जाना चाहता है और इसी प्रक्रिया के अंतर्गत वह अपना एक आदर्श स्वरुप गढ़ता...

Read More
Loading

One click login/register

Subscribe